5 months ago

इश्क़

इश्क़ ~ दिलजले की आस में न दिल जले तो क्या जले? अधजले तो वो जले...... हम जले कि फिर खाक जले।~ read more...

5 months ago

गुमराहगीर

 गुमराहगीर~गुनाह बहुत से रहे होंगे मेरे मुकरना मुनासिब भी नहीं लगता । मेरी हर खता का एक हिस्सा मैंने दोस read more...

5 months ago

गुमराहगीर

~गुनाह बहुत से रहे होंगे मेरे मुकर read more...